Anant Chaturdashi 2020 : अनंत पूजन से दूर होती है दुख-दरिद्रता, जानें शुभ मुहूर्त

Anant Chaturdashi 2020 : ऐसी मान्यता है कि अनंत पूजन से दुख-दरिद्रता दूर होती है. हिंदू धर्म शास्त्रों की मानें तो, अनंत चतुर्दशी का विशेष महत्व है. इस साल यह प्रसिद्ध पर्व मंगलवार (1 सितंबर, 2020) को मनाया जायेगा. उदयकाल से लेकर तीन मुहूर्त तक व्याप्त चतुर्दशी को करने का शास्त्र सम्मत विधान है. इस दिन अनंत कथा सुनने, अनंत धारण करने के साथ मीठा पकवान भगवान विष्णु को अर्पित कर प्रसाद स्वरूप परिजनों सहित ग्रहण करना पूर्ण फलदायी है. इस दिन अनंत रूप में भगवान विष्णु की पूजा भक्त करते हैं, जो अनंत नाम से जाने एवं पूजे जाते हैं. भगवान विष्णु ही संपूर्ण जगत के एकमात्र अधिपत्य स्वामी हैं.

अनंत चतुर्दशी का संबंध महाभारतकाल से है. कथा के मुताबिक, कौरवों से जुआ हारने के बाद पांडव वन-वन भटक रहे थे तब श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से कहा- हे धर्मराज! जुआ खेलने के कारण देवी लक्ष्मी आप से रुष्ट हो गयी हैं. उन्हें प्रसन्न करने के लिए आपको अपने भाइयों के साथ अनंत चतुर्दशी का व्रत रखना चाहिए. विधि अनुसार, भाद्रशुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को केसरिया धागे से चौदह गांठ लगाकर कच्चे दूध में डुबोकर ‘ऊँ अनन्ताय नम:’ मंत्र से भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए. श्रीकृष्ण के कहने पर सर्वप्रथम पांडवों ने अनंत का व्रत किया, जिससे खोया हुआ राज्य और लक्ष्मी को पुन: प्राप्त किया.

अनंत पूजा शुभ मुहूर्त जानें : पंडित अरविंद मिश्र के अनुसार, मंगलवार (1 सितंबर, 2020) को प्रात: 5:59 से 9:41 बजे तक विशेष शुभ मुहूर्त रहेगा, उसके उपरांत पूर्णिमा तिथि आरंभ हो जायेगी, जो अगले दिन 9:34 मिनट तक रहेगी. शास्त्रों के अनुसार उदयातिथि में दिनभर भक्तगण भगवान अनंत की पूजा करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *