Friday, March 1, 2024
Latest Newsअन्य खबरबड़ी खबर

सीमा हैदर के भारत आने से बौखलाया पाकिस्तान, मंदिरों को बनाया जा रहा है निशाना

पाकिस्तान के सिंध प्रांत से रविवार को एक बड़ी खबर आयी. यहां डाकुओं ने हिंदू समुदाय के एक पूजा स्थल पर हमला किया है. हमले के बाद दीवारों पर गोलियों के निशान पाये गये. हालांकि हमले में किसी के हताहत होने की ख़बर नहीं आयी. यदि आपको याद हो तो कुछ दिनों पहले डाकुओं ने धमकी दी थी कि यदि सीमा रिंद उर्फ सीमा हैदर को भारत से वापस नहीं लाया गया तो वो हिंदुओं के पूजा स्थलों को निशाना बनाएंगे. सीमा हैदर की मानें तो वो भारत के सचिन मीणा से लव करती हैं और अपने चार बच्चों के साथ उनके पास ग्रेटर नोएडा में रह रही हैं. वो पाकिस्तान से नेपाल के रास्ते भारत के ग्रेटर नोएडा तक पहुंचीं थी जिसकी खबरों ने खूब सुर्खियां बटोरी. ये मामला दोनों देशों में चर्चा का विषय है.

जानकारी के अनुसार डकैतों के एक गिरोह ने सिंध के काशमोर में हिंदू समुदाय के एक पूजा स्थल पर रॉकेट लॉन्चर से हमला किया. घटना रविवार तड़के की बतायी जा रही है. इस संबंध में ‘दी डॉन’ वेबसाइट पर जानकारी दी है. खबरों की मानें तो हमलावरों ने गौसपुर पुलिस स्टेशन के अधिकार क्षेत्र में एक पूजा स्थल और आसपास के समुदाय के घरों पर हमला किया जिससे वहां के लोग दहशत में आ गये. डकैतों ने अंधाधुंध गोलीबारी की. बताया जा रहा है कि डकैतों ने महिलाओं और बच्चों सहित हिंदू समुदाय के लगभग 30 सदस्यों को बंधक बना भी लिया गया था.

ढहाया गया मंदिर
इधर, पाकिस्तान के सिंध प्रांत की राजधानी कराची में करीब 150 साल पुराने एक हिंदू मंदिर को पुराना और खतरनाक ढांचा बताते हुए ध्वस्त कर दिया गया. मंदिर ध्वस्त किये जाने के बाद इलाके में रहने वाले हिंदू समुदाय के लोगों के बीच दहशत का माहौल हैं. कराची के सोल्जर बाजार में स्थित मारी माता मंदिर को शुक्रवार देर रात भारी पुलिस बल की मौजूदगी में बुलडोजर की मदद से ढहा दिया गया. क्षेत्र में हिंदू मंदिरों की देखभाल करने वाले रामनाथ मिश्रा महाराज ने बताया कि उन्होंने (अधिकारियों ने) देर रात मंदिर को गिरा दिया और हमें इसकी कोई जानकारी नहीं थी कि ऐसा होने वाला है. अधिकारियों ने मंदिर के बाहरी दीवारों और मुख्य द्वार को बरकरार रखा, लेकिन उन्होंने अंदर की पूरी संरचना को ध्वस्त कर दिया. मंदिर करीब 150 साल पहले बनाया गया था और कहा जाता था कि मंदिर के प्रांगण में खजाना दबा हुआ था.