आरोग्य मित्रों को दी गयी तकनीकी व सॉफ्ट स्किल की ट्रेनिंग

-लाभुकों तक गुणवत्तापूर्ण सेवाओं की पहुंच बढ़ेगी

-दो बैच में 39 आरोग्य मित्रों को मिला प्रशिक्षण

बिहार के गया जिला में आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों तक प्रभावी तरीके से योजना का लाभ पहुंचाने की हर संभव कोशिश ​स्वास्थ्य विभाग द्वारा की जा रही है। इसके लिए आयुष्मान भारत कार्ड बनाने के लिए अस्पतालों में नियुक्त किये गये आरोग्य मित्रों को खास तौर पर प्रशिक्षण दिया जा रहा है । ताकि वे योजना के लाभुकों को ससमय लाभ पहुंचा सकें एवं सूचीबद्ध लाभार्थियों के कार्ड बनवाने में होने वाली परेशानियों को दूर कर सके। उन्हें आवश्यक सूचनाओं से लैस करने सहित सॉफ्ट स्किल तथा बिहेवियरल चेंज आदि को लेकर प्रशिक्षण दिया गया है। इसे लेकर शहर के जयप्रकाश नारायण अस्पताल सभागार में मंगलवार को 16 आरोग्य मित्रों के दूसरे बैच का प्रशिक्षण दिया गया। पूर्व में 23 आरोग्य मित्रों के पहले बैच का प्रशिक्षण हो चुका है। आयुष्मान भारत के जिला कार्यक्रम समन्वयक नलीन मौर्य तथा आईटी मैनेजर रीना ने मास्टर ट्रेनर के तौर पर आरोग्य मित्रों को प्रशिक्षण दिया।

नलीन मौर्य ने बताया आरोग्य मित्रों को प्रशिक्षण के दौरान सॉफ्ट स्किल तथा बिहेवियरल चेंज आदि के बारे में बताया गया है। साथ ही आयुष्मान भारत पोर्टल से जुड़ी तकनीकी जानकारी तथा फ्रॉड कंट्रोल को लेकर प्रशिक्षित किया गया है। बताया कि अब तक दो बैच में 39 आरोग्य मित्रों को यह प्रशिक्षण दिया जा चुका है। यह प्रशिक्षण के तहत 23 आयुष्मान भारत सूचीबद्ध सरकारी अस्पताल व 16 प्राइवेट अस्पतालों के आरोग्य मित्रों को दिया गया है। यह प्रशिक्षण नेशनल हेल्थ आॅथोरिटी के सहयोग से हेल्थ केयर सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा दिया गया। इस प्रशिक्षण की मदद से आरोग्य मित्र ज्यादा लगन से काम कर सकेंगे। वे स्वयं को एक बेहतर की—कॉन्टैक्ट पर्सन के रूप में स्थापित कर सकेंगे। जहां लाभा​र्थियों को योजना के बारे में विस्तार से जानकारी मिल सकेगी। इससे आयुष्मान भारत योजना का अधिकतम लाभ लाभुकों तक पहुंचेगा। योजना के तहत लाभ को लाभुकों तक पहुंचाने में संभावित दूरी को पाटने में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

वसुुधा केंद्र जाकर बनवा सकते हैं आयुष्मान कार्ड:
आइटी मैनेजर रीना ने बताया आयुष्मान कार्ड नजदीकी वसुधा केंद्र से बनवाया जा सकता है। इसके लिए लाभार्थी सीधे वसुधा केंद्र जायें और कार्ड बनवायें। उन्होंने बताया गुणवत्तापूर्ण सेवाएं सुनिश्चित करने के उद्देश्य से आरोग्य मित्रों का रोल प्ले भी करवाया गया। हेल्थ सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा प्रतिभागियों के कार्यों का मूल्यांकन कर सर्टिफिकेट प्रदान किया जायेगा। बताया कि जिला के इमामगंज तथा मोहनपूर प्रखंड में माइक्रोप्लान के तहत लाभार्थियों का आयुष्मान भारत कार्ड बनाया जा रहा है। वसुधा केंद्रों पर नि:शुल्क कार्ड बनाने का काम किया जा रहा है। वहीं यह भी जानकारी दी कि आयुष्मान भारत योजना की सूची में शामिल पात्र लाभार्थियों के अलावा अन्य किसी व्यक्ति का नाम नहीं जोड़ा जा सकता है। श्रम विभाग द्वारा निबंधित श्रमिक का आयुष्मान कार्ड बन सकता है।