अगले पांच साल में बढ़ सकता है 1.5 डिग्री तापमान

आने वाले  पांच साल में 1.5 डिग्री तापमान बढ़ सकता है. यह कहना संयुक्त राष्ट्र की मौसम विज्ञान एजेंसी का है. एजेंसी ने कहा कि आने वाले पांच वर्ष में औसत वैश्विक तापमान पहली बार पूर्व-औद्योगिक औसत स्तर से 1.5 डिग्री सेल्सियस अधिक हो सकता है. उल्लेखनीय है कि 1.5 डिग्री सेल्सियस वह स्तर है जिस पर विभिन्न देशों ने ‘ग्लोबल वार्मिंग’ को सीमित करने की कोशिश करने के लिए सहमति जतायी है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि दुनिया भर में औसत तापमान 1850-1900 की अवधि की तुलना में पहले ही कम से कम एक डिग्री सेल्सियस अधिक है. इसका कारण मानव निर्मित ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन है. विश्व मौसम विज्ञान संगठन ने कहा कि 20 प्रतिशत संभावना है कि 2020 से 2024 के बीच कम से कम एक वर्ष 1.5 डिग्री सेल्सियस स्तर तक पहुंच जायेगा. इस अवधि में वार्षिक औसत तापमान पूर्व औद्योगिक औसत से 0.91 से 1.59 डिग्री सेल्सियस अधिक रहने का अनुमान है. यह पूर्वानुमान ब्रिटेन के मौसम विज्ञान कार्यालय की पहल पर तैयार किये गये ‘वार्षिक जलवायु पूर्वानुमान’ में शामिल है.

डब्ल्यूएमओ प्रमुख पेट्री तालस ने कहा कि अध्ययन से पता चलता है कि 2015 के पेरिस समझौते के लक्ष्यों को पूरा करने में देशों के समक्ष भारी चुनौती है. समझौते में ग्लोबल वार्मिंग को दो डिग्री सेल्सियस से नीचे रखने का लक्ष्य रखा गया है जो आदर्श रूप से 1.5 डिग्री से अधिक नहीं है. पूर्वानुमान के लिए उपयोग किये जाने वाले तौर-तरीकों में कोरोना वायरस महामारी के कारण पड़ने वाले प्रभावों पर विचार नहीं किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *