Saturday, February 24, 2024
Latest Newsकविताएं

चिराग जलता रहा…

चिराग जलता रहा, हवा को चुनौती देकर!
जब तक जला, दुनिया से गया रौशनी देकर!!

समंदर तड़पता रहा, साहिल के लिए!
जब तक न मिला, बेचैन रहा लिपटने के लिए!!

रात राह तकता रहा, सुबह के लिए!
जब तक था अंधेरा, इंतजार करता रहा सूरज के लिए!!

बादल उमड़ता रहा, बारिश के लिए!
जब तक न मिला , तड़पता रहा बरसने के लिए!!

                       🌹शिवपूजन🌹