झारखण्ड मानवाधिकार संघ की पहल, नोवामुंडी कॉलेज के छात्रों को पढ़ाया मानवाधिकार का पाठ

झारखण्ड मानवाधिकार संघ लगातार समाज में एक इंसान के क्या-क्या हक़ है ?. इसकी लड़ाई के साथ-साथ जागरूकता अभियान भी चला रहा है. पश्चिमी सिंहभूम के नोवामुंडी डिग्री कॉलेज में, इसकी जिम्मेदारी निभाते हुए, कॉलेज के छात्र-छात्राओं को मानवाधिकार और सूचना का अधिकार का ज्ञान दिया, ताकि इसके जरिए अपने अधिकार को जाने और खुद को मज़बूत कर जीवन में आगे बढ़े. सूचना के अधिकार पखवाड़ा के चलने के मौक़े पर झारखण्ड मानवाधिकार संघ के अध्यक्ष दिनेश शर्मा उर्फ़ कीनू का स्वागत कॉलेज के प्रिंसिपल मानवजीत विश्वास ने गुलदस्ते देकर किया. दिनेश शर्मा ने छात्रों को मानवाधिकार और सूचना के अधिकार के सम्बन्ध में कई कीमती जानकारियां दी, उनके क्या-क्या हक़ कानून में है ?और क्या-क्या अपने अधिकार की रक्षा के लिए करना चाहिए ?, इसके बारे में विस्तार से बताया और समझाया. दिनेश शर्मा उर्फ़ कीनू, मानवाधिकार के लिए काम पिछले दो दशक से ज्यादा वक़्त से कर रहें हैं.

कॉलेज के प्रिंसिपल मानवजीत विश्वास ने भी मानवाधिकार और सूचना का अधिकार क्यों जरुरी हैं ?और भविष्य में ये कैसे लोगों की जिंदगी संवार सकता है ?, इसपर अपनी बात मजबूती से और विस्तारपूर्वक रखी. इस विषय को लेकर कॉलेज के छात्रों में काफ़ी उत्साह देखा गया. उन्हें गहन और सटीक जानकारी मिले, इसे लेकर सबों को पर्ची बांटी गई. इस समारोह में मानवाधिकार कार्यकर्त्ता उमावती भी मौज़ूद रहीं, उन्होंने छात्रों को पर्ची बांटी और कई जानकारियां दी. इस दौरान कॉलेज के प्रोफेसर समेत कई गणमान्य लोग मौज़ूद रहें. उन्होंने भी अपनी -अपनी बात रखी और छात्रों को जागरूक किया.