Bihar Election Result 2020 : बिहार में जीत के बाद पीएम मोदी का कांग्रेस पर तीखा वार, कहा- एक परिवार के चंगुल में फंसकर रह गई पार्टी

बिहार में सत्ता विरोधी लहर और विपक्ष की कड़ी चुनौती को पार करते हुए नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए ने बिहार में बहुमत का जादुई आंकड़ा हासिल हासिल कर लिया. इस जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं आज आभार व्यक्त करता हूं महान देश की महान जनता का… धन्यवाद इसलिए नहीं कि उन्होंने चुनावों में भाजपा को इतनी बड़ी सफलता दी है, इसके तो वो हकदार हैं ही… धन्यवाद इसलिए क्योंकि लोकतंत्र के इस महान पर्व को हम सभी ने मिलकर बहुत उत्साह से मनाया है…

आगे पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के इस संकट काल में ये चुनाव कराना आसान नहीं था. लेकिन हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्थाएं इतनी सशक्त हैं, पारदर्शी हैं कि इस संकट के बीच भी उन्होंने इतना बड़ा चुनाव कराकर दुनिया को भी भारत के ताकत की पहचान करा दी है…उन्होंने कहा कि 21वीं सदी के भारत के नागरिक, बार-बार अपना संदेश स्पष्ट कर रहे हैं. अब सेवा का मौका उसी को मिलेगा, जो देश के विकास के लक्ष्य के साथ ईमानदारी से काम करेगा. हर राजनीतिक दल से देश के लोगों की यही अपेक्षा है कि देश के लिए काम करो, देश के काम से मतलब रखो…

प्रधानमंत्री ने कहा कि भाजपा की सफलता के पीछे उसका गवर्नेंस मॉडल है… जब लोग गवर्नेंस के बारे में सोचते हैं, तो भाजपा के बारे में सोचते हैं। भाजपा सरकारों की पहचान ही है – गुड गवर्नेंस… उन्होंने कहा कि मैं बिहार के अपने भाइयों और बहनों से कहूंगा, आपने एक बार फिर सिद्ध किया है कि बिहार क्यों लोकतंत्र की ज़मीन कहा जाता है… आपने फिर सिद्ध किया है कि वाकई, बिहारवासी पारखी भी हैं और जागरूक भी…. कई राज्यों में जीत के बाद पीएम मोदी ने कांग्रेस का बिना नाम लिए निशाना साधा और कहा कि देश में सबसे लंबे समय तक राज करने वाली एक पार्टी एक परिवार के चंगुल में फंसकर रह गई है.

आपको बता दें कि बिहार चुनाव में सत्तारूढ़ गठबंधन ने विधानसभा की 243 सीटों में से 125 सीटों पर जीत हासिल की, जबकि विपक्षी महागठबंधन ने 110 सीटें जीतीं…इसके साथ की कुमार के लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री बनने की राह साफ हो गई है. हालांकि इस बार उनकी पार्टी जदयू को 2015 जैसी सफलता नहीं मिली है. जदयू को 2015 में मिली 71 सीटों की तुलना में इस बार 43 सीटें ही प्राप्त हुई. उस समय नीतीश की जदयू ने लालू प्रसाद की राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव जीता था. इस बार राजद 75 सीटें अपने नाम करके सबसे बड़ी एकल पार्टी के रूप में उभरी है.

मतगणना के शुरुआती घंटों में बढ़त बनाती नजर आ रही भाजपा को 16 घंटे चली मतों की गणना के बाद 74 सीटों के साथ दूसरा स्थान मिला. जदयू को चिराग पासवान की लोजपा के कारण बहुत नुकसान झेलना पड़ा है. लोजपा को एक सीट पर जीत मिली, लेकिन उसने कम से कम 30 सीटों पर जदयू को नुकसान पहुंचाने का काम किया हैं. भाजपा की 74 और जदयू की 43 सीटों के अलावा सत्तारूढ़ गठबंधन साझीदारों में हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा को चार और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को चार सीटें मिलीं.

वहीं विपक्षी महागठबंधन में राजद को 75, कांग्रेस को 19, भाकपा माले को 12 और भाकपा एवं माकपा को दो-दो सीटों पर जीत मिली. इस चुनाव में एआईएमआईएम ने पांच सीटें और लोजपा एवं बसपा ने एक-एक सीट जीती है. एक सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार जीतने में सफल रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *