गुजरात विधानसभा चुनाव: भाजपा की पहली सूची में दलबदलूओं का दबदबा

गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हैं. इस बीच भाजपा ने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कि है जिसमें कई दलबदलू नेताओं का नाम है. पिछले पांच साल में विधानसभा की सदस्यता छोड़कर कांग्रेस से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थामने वाले कई पूर्व विधायकों को सत्तारूढ़ पार्टी ने गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए टिकट देने का काम किया है.

इस साल मई में विपक्षी दल छोड़कर भगवा पार्टी का दामन थामने वाले कांग्रेस के पूर्व कार्यवाहक प्रदेश अध्यक्ष तथा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के साथ कांग्रेस के अनेक पूर्व विधायकों को भाजपा ने उन सीटों से ही खड़ा किया है जहां से वे उपचुनाव जीत चुके हैं. भाजपा ने गुजरात में दो चरणों में होने वाले 182 सीटों के चुनाव के लिए 160 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की है जिसमें कई मौजूदा विधायकों का नाम नजर नहीं आ रहा है.

भाजपा ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल को उनकी विधानसभा सीट घाटलोदिया से खड़ा किया है. पार्टी ने कई मौजूदा विधायकों को इस बार प्रत्याशी नहीं बनाया है. गुजरात में 2017 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 77 सीटों पर जीत का परचम लहराया था. इनमें से पिछले पांच साल में करीब 20 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया और तीन ने तो पिछले दो दिन में ही विधानसभा की सदस्यता छोड़कर कांग्रेस को परेशानी में डाल दिया. इन 20 विधायकों में से अधिकतर ने अपने इस्तीफे के बाद खाली हुई सीटों पर उपचुनाव में जीत प्राप्त की और ज्यादातर को भाजपा ने दोबारा अवसर प्रदान किया है.

भाजपा ने कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ पूर्व विधायक और आदिवासी नेता मोहन राठवा के बेटे राजेंद्रसिंह राठवा को चुनावी मैदान में उतारा है. मोहन राठवा ने दो दिन पहले ही विधानसभा से इस्तीफा दिया था. राठवा के अलावा इस साल इस्तीफा देने वाले विधायकों में भगवान बराड, हर्षद रिबाडिया और अश्विन कोतवाला का नाम शामिल हैं. उन्हें क्रमश: तलाला, विसावदर और खेदब्रह्मा से भाजपा उम्मीदवार खड़ा किया है. भाजपा ने अन्य पिछड़ा वर्ग के नेता अल्पेश ठाकोर को चुनाव लड़ाने के बारे में अभी फैसला नहीं लिया है. उन्होंने 2019 में राधनपुर सीट से विधानसभा की सदस्यता छोड़कर उपचुनाव लड़ा था और हार गये थे. यदि आपको याद हो तो वह कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आये थे.