Wednesday, May 29, 2024
Latest Newsअन्य खबर

पूर्वी भारत को देश में उर्वरक की मांग बढ़ाने वाले इंजन के रूप में देखते हैं मैटिक्स के चेयरमैन निशांत कनोडिया

मुंबई: भारत के सबसे तेजी से बढ़ते फसल पोषक प्रदाताओं में से एक, मैट्रिक्स फर्टिलाइजर एंड केमिकल्स लिमिटेड के चेयरमैन निशांत कनोडिया ने उम्मीद जताई कि आने वाले महीनों में पूर्वी भारत देश में उर्वरकों की मांग बढ़ानेवाला विकास इंजन होगा।

कनोडिया ने कहा, पूर्वी भारत में उर्वरकों की खपत लगभग 158।4 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर है, जो उत्तर भारत में 212।4 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की खपत के मुकाबले बहुत कम है। क्योंकि फसल पोषक तत्वों की मांग केवल इस क्षेत्र में बढ़ सकती है। इसलिए पूर्वी भारत मैटिक्स को इस अल्प-सेवित बाजार को विकसित करने का अवसर प्रदान करता है।

प्रबंध निदेशक मनोज मिश्र ने कहा कि मैटिक्स के पास पूर्वी भारत के कृषि क्षेत्र के मध्य में होने वाली हमारी विनिर्माण सुविधा का लोकेशन या स्थान का लाभ है। छह कृषि प्रधान राज्यों में मैटिक्स के लगभग 700 डीलर्स को मैटिक्स के यूरिया संयंत्र से सेवा दी जाती है। मैटिक्स के मजबूत वितरण नेटवर्क का फोकस भारत के पूर्वी क्षेत्र में होनेके कारण, हम इन राज्यों में किसानों की सेवा करने के लिए सबसे अच्छी स्थिति में हैं। मैटिक्स अपने संचालन के प्रथम पूर्ण वर्ष से पहले हासिल की गई अपनी उपलब्धियों के लिए जश्न मना रहा है।

संयंत्र अक्तूबर 2021 में चालू हुआ था। पूरी तरह से एकीकृत, गैस आधारित सुविधा भारत के सबसे बड़े सिंगल स्ट्रीम उर्वरक संयंत्रों में से एक है। इनमें 1।27 मिलियन टन का उत्पादन करने की क्षमता है। हर साल यूरिया संयंत्र के लिए प्रौद्योगिकी वैश्विक स्तर पर अग्रणी – केबीआर, यूएसए से अमोनिया के लिए और सैपम, इटली से यूरिया के लिए हासिल की गई है।