Gujarat Election 2022 : कहां हैं अल्पेश ठाकोर ? जानें राधनपुर विधानसभा का क्या है समीकरण

Gujarat Election 2022 : गुजरात में चुनावी सरगर्मी बढ‍़ चुकी है इस बार भाजपा और कांग्रेस के अलावा मैदान पर आम आदमी पार्टी यानी आप भी ताल ठोक रही है. यदि साल 2017 में गुजरात विधानसभा चुनाव की बात करें तो इसमें भाजपा और कांग्रेस के बीच मुकबला था हालांकि प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी लेकिन कांग्रेस ने भी अपना शानदार प्रदर्शन किया. इसके पीछे की वजह तीन चर्चित चेहरे थे…जी हां..पहला चेहरा था हार्दिक पटेल का जिन्होंने पिछले दिनों कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम लिया है जबकि दूसरा चेहरा जिग्नेश मेवानी का है जो अभी भी कांग्रेस के साथ हैं.

अल्पेश ठाकोर कहां हैं आजकल
वहीं तीसरे चेहरे की बात करें तो उसका नाम आजकल सुर्खियों में नहीं रहता है. वह नाम है अल्पेश ठाकोर का. सभी जानना चाहते हैं कि आखिर वो अभी कहां हैं और क्या वे साल 2022 का चुनाव लड़ेंगे. तो आइए आपको बताते हैं कि आखिर अभी अल्पेश ठाकोर कहां हैं और वे क्या कर रहे हैं. दरअसल, ओबीसी आंदोलन के जरिए अल्पेश ठाकोर चर्चा में आए थे. उन्होंने सबसे पहले शराबबंदी का आंदोलन शुरू किया जिसे जनता का भी साथ मिला. उत्तर गुजरात के ठाकोर समाज ने अल्पेश की इस शराबबंदी मूवमेन्ट कह बहुत सराहना की.

मंत्री पद चाहते थे अल्पेश
यदि आपको याद हो तो 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले अल्पेश ने कांग्रेस का दामन थामा था. उन्हें कांग्रेस जॉइन कराने के लिए राहुल गांधी खुद गुजरात पहुंचे थे. 2017 में अल्पेश ने राधनपुर सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था और वहां से जीत का परचम लहराया था. बात ये भी सामने आयी थी कि चुनाव जीतने के बाद अल्पेश मंत्री पद चाहते थे.

राधनपुर सीट से हारे थे अल्पेश
हालांकि अल्पेश की इच्छा पूरी नहीं हो सकी. ऐसा इसलिए क्योंकि 2017 में कांग्रेस बहुमत में नहीं आ पायी. इस वजह से अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस को छोड़ दिया और भाजपा में शामिल हो गये.  अल्पेश ठाकोर के भाजपा में जाने के बाद उपचुनाव हुआ तो राधनपुर सीट से अल्पेश ठाकोर चुनावी मैदान ताल ठोकने उतरे. उनके सामने कांग्रेस ने रधु देसाई को खड़ा किया. इस चुनाव के लिए जो प्रचार किया जा रहा था उसमें अल्पेश चुनावी दोहराते रहे कि चुनाव खत्म होने के बाद लालबत्ती वाली गाड़ी में आऊंगा, लेकिन अल्पेश का ये सपना पूरा नहीं हो सका और उन्हें इस चुनाव में मुंह की खानी पड़ी.

अल्पेश ठाकोर लड़ सकते हैं चुनाव
अल्पेश ठाकोर वर्तमान समय में अपने समाज के नाम पर राजनीति कर रहे हैं. अल्पेश को न तो भाजपा के संगठन में स्थान मिला है और न ही पार्टी की ओर से उनकी खोज खबर ली जाती है. ये तो तय है कि अल्पेश 2022 में चुनाव लड़ते नजर आएंगे और हो सकता है कि भाजपा उनका साथ दे इसमें.

राधनपुर विधानसभा का हाल
राधनपुर विधानसभा सीट की बात करें तो यहां करीब 258424 मतदाता हैं जिसमें से 136646 पुरुष और 123777 महिला वोटर हैं.  राधनपुर के पिछले कई चुनाव पर नजर डालें तो यहां कांग्रेस का पलड़ा भाजपा और दूसरी पार्टियों पर भारी दिखता है. देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस ने साल 1962, 1972, 1975, 1980, 1985, 2017 के बाद 2019 के उपचुनाव में भी जीत हासिल की थी. वहीं, भाजपा की बात करें तो वो केवल साल 2007, 2012, 2002, 1998 के विधानसभा चुनावों में ही जीत का स्वाद चख सकी है.