Saturday, February 24, 2024
Latest Newsबड़ी खबरराजनीति

लौटकर रिम्स नहीं आ रहे हैं लालू यादव, AIIMS दिल्ली ने लिया भर्ती, जानें हेल्थ अपडेट

चारा घोटाले के डोरंडा ट्रेजरी से गबन मामले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद यादव उस वक्त मुश्किल में पड़ गये जब उनको दिल्ली AIIMS ने एडमिट करने से इंकार कर दिया. खबरों की मानें तो लालू प्रसाद यादव को रांची स्थित रिम्स वापस भेजा जा रहा था लेकिन बाद में उन्हें इलाज के लिए एम्स में ही रखा गया. खबरों की मानें तो AIIMS में जांच के बाद लालू प्रसाद को भर्ती करने के लायक नहीं माना गया था. यही वजह है कि उनको रिम्स वापस भेजाने के संबंध में खबर आई. बाद में तेजस्वी यादव ने कहा कि फिलहाल दिल्ली के एम्स में पिता का इलाज चल रहा है. जब पिता रांची के रिम्स में इलाजरत थे, तब उनका क्रिटनीन लेवल 4.5 था. अब एम्स में इसका टेस्ट किया, तो यह बढ़कर 5.1 हो गया. वहीं, दोबारा टेस्ट करने पर यह 5.9 पर पहुंच गया है. पिता के शरीर में संक्रमण लगातार बढ़ रहा है, जो चिंता का विषय है.

आपको बता दें कि मंगलवार की रात करीब 8:30 बजे लालू प्रसाद विशेष विमान से रांची से दिल्ली लाए गए थे. उन्हें पुलिस की कस्टडी में भेजने का काम किया गया था. रात को ही लालू प्रसाद के स्वास्थ्य की पूरी जांच की गई और यह फैसला लिया गया.

लिया गया एम्स रेफर करने का फैसला
झारखंड की राजधानी रांची स्थित रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती चारा घोटाला के सजायाफ्ता लालू प्रसाद के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट आने के बाद मंगलवार को उन्हें एम्स भेजने का फैसला लिया गया था. ब्लड रिपोर्ट और हार्ट में गड़बड़ी के संकेत मिलने पर आनन-फानन में स्टेट मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया था. बोर्ड में पांच विभागाध्यक्ष और इलाज कर रहे डॉक्टर शामिल हुए थे. बोर्ड ने लालू को एम्स रेफर करने का फैसला अंत में लिया. उनको मंगलवार शाम 5:15 बजे रिम्स के पेइंग वार्ड से एंबुलेंस द्वारा बिरसा मुंडा एयरपोर्ट भेजा गया, जहां से शाम 6:31 बजे एयर एंबुलेंस उन्हें लेकर उड़ा था.

क्यों हुई समस्या
खबरों की मानें तो लालू प्रसाद की किडनी की समस्या में वृद्धि असंतुलित खानपान की वजह से हुई है. पिछले एक सप्ताह से लालू प्रसाद ने नमक और चीनी का प्रयोग बढ़ा दिया था. वहीं तले-भूने खाद्य पदार्थ का भी ज्यादा सेवन कर रहे थे, जिससे क्रिटनीन बढ़ गया था. दिल्ली जाने के क्रम में लालू के साथ उनकी पुत्री मीसा भारती, दामाद शैलेश कुमार, राजद नेता भोला यादव उनके साथ थे.

डॉ विद्यापति (चेयरमैन मेडिकल टीम ) ने बताया कि क्रिटनीन बढ़ रहा था और इजीएफआर तेजी से घट रहा था. प्रोबीएनपी भी बढ़ा था, जिससे हार्ट फेल्योर का संकेत था. बोर्ड ने एम्स रेफर करने का फैसला लिया, जिससे वहां भेजा गया.