Coronavirus Pandemic : फूंक मारते ही मिलेगी कोरोना रिपोर्ट

भारत और इस्राइल के वैज्ञानिक संयुक्त रूप से एक कोरोना टेस्टिंग किट बना रहे हैं, जिससे एक मिनट से भी कम समय में कोरोना टेस्ट हो जायेगा. जानकारी के अनुसार रैपिड टेस्टिंग किट का ट्रायल अंतिम चरण में है. यदि यह कामयाब रहा, तो कोरोना की जांच से संबंधित तकनीक में बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी.

भारत में इस्राइल के राजदूत रॉन माल्का ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि यह रैपिड टेस्ट टेक्नोलॉजी सिर्फ एक मिनट में बता देगी कि व्यक्ति को कोरोना संक्रमण है या नहीं. इसके लिए टेस्ट करानेवाले शख्स को बस एक ट्यूब में मुंह से हवा मारनी होगी. इससे 30-40-50 सेकेंड में नतीजे आ जायेंगे. उन्होंने कहा कि इस्राइल चाहता है कि भारत इस किट के लिए विनिर्माण केंद्र बने. कहा कि दोनों देश कोरोना वैक्सीन विकसित करने में भी सहयोग करेंगे. कहा कि ‘आइसोथर्मल’ जांच भी है, जिसके जरिये लार के नमूने में वायरस की मौजूदगी की पहचान की जा सकती है.

मानव त्वचा पर नौ घंटे तक जीवित रह सकता है वायरस : इधर ‘क्लिनिकल इंफेक्शस डिजीज’ पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि कोरोना वायरस मानव त्वचा पर नौ घंटे तक जीवित रह सकता है. इस अध्ययन में जापान स्थित क्योटो प्रीफेक्चरल यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिसिन के अनुसंधानकर्ता भी शामिल थे. इसमें हाथ धोने या सैनेटाइजर को वायरस से निबटने में कारगर पाया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *